अंतरिम बजट क्या है ? What is Interim Budget in Hindi

What is Interim Budget in Hindi :-जैसा की आप सभी को पता है सरकार द्वारा इस बार यानी 2019 में अंतरिम बजट (Interim Budget1 फरवरी 2019 को पेश किया जाएगा। Interim financial budget 2019 की लगभग सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं।आज हम इस आर्टिकल में आपको बतायेंगे की अंतरिम बजट क्या होता है ?अंतरिम बजट कौन पेश करता है? तथा भारत में प्रथम अंतरिम बजट कब और किसने पेश किया था ? इत्यादि महत्वपूर्ण जानकारी इस ब्लॉग में आप जानेगे ।

What is Interim Budget in Hindi

भारतीय बजट का इतिहास

भारतीय बजट का इतिहास 150 साल से भी अधिक पुराना है। और इतने सालों में इसकी परम्परा और कार्यप्रणाली में काफी बदलाव भी हुए है। देश का प्रथम बजट 7 अप्रैल 1860 को ब्रिटिश सरकार के वित्त मंत्री जेम्स विल्सन ने पेश किया था। भारत में सन 1924 से लेकर 1999 तक बजट को फरवरी महीने के अंतिम कार्यकारी दिन को शाम के 5 बजे इसे सदन में पेश किया जाता था ।

जिसकी शुरुआत सर बेसिल ब्लैकैट ने 1924 में की थी। शाम को बजट पेश करने के पीछे मुख्य कारण था की बजट का सम्पूर्ण लेखा जोखा तैयार करने वाले अधिकारी रात रात भर जागकर इसे तैयार करते थे तो बजट पेश करने वाले दिन उन अधिकारियों को दिन में थोडा आराम मिल जाए ।इस परम्परा को तोड़ते हुए सन 2000 में पहली बार यशवंत सिन्हा ने बजट सुबह 11 बजे पेश किया था ।

स्वतंत्रता भारत का प्रथम बजट 

भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश का पहला बजट देश के प्रथम वित्त मंत्री आर० के० षणमुखम चेट्टी ने 26 नवंबर 1947 को पेश किया । इस बजट को 15 अगस्त 1947 से 31 मार्च 1948 के कार्यकाल के लीए पेश किया।

गणतंत्र भारत का प्रथम बजट 

भारतीय गणतंत्र की स्थापना के बाद पहला बजट 28 फरवरी 1950 को जान मथाई ने पेश किया था इस बजट में योजना आयोग की स्थापना का वर्णन किया था।

What is Interim Budget in Hindi

सबसे पहले जानते है की अंतरिम बजट आखिर होता क्या है ? आरके षणमुखम चेट्टी ने 1948-49 के दोरान बजट में पहली बार अंतिरम शब्द का प्रयोग किया तब से लघु अवधि के बजट के लिए इस शब्द का इस्तेमाल शुरु हुआ।देश में प्रथम अंतरिम बजट 1951-52 में पेश किया था । जिसे वित्त मंत्री सीडी देशमुख ने पेश किया था जो रिजर्व बैंक के पहले गवर्नर भी थे। 

अंतरिम बजट चुनावी साल में कुछ वक्त तक देश को चलाने के लिए खर्चों का इंतजाम करने की औपचारिकता है। नई सरकार बनाने के लिए जो समय होता है, उस अवधि के लिए  अंतरिम बजट  संसद में पेश किया जाता है। नई सरकार बनने के बाद जुलाई में  अनुपूरक बजट  पेश किया जाता है जोे बाकी के वित्त वर्ष के लिए होता है। अन्य वर्षों में वित्त मंत्री पूर्ण बजट पेश करते हैं।इस बजट में कोई भी ऐसा फैसला नहीं किया जाता है। जिसमें ऐसे नीतिगत फैसले हों जिसके लिए संसद की मंजूरी लेनी पड़े या फिर कानून में संशोधन की जरूरत हो।

ये भी जाने :-अंतरिम बजट 1 फरवरी 2019 को पेश होगा

अंतरिम बजट की परंपरा है कि इसमें डायरेक्ट टैक्स, जिसमें इनकम टैक्स शामिल है, उसमें कोई बदलाव नहीं किया जाता। इनडायरेक्ट टैक्सों में भी कम ही बदलाव किया जाता है। सरकार अगर कोई चीज सस्ती करनी चाहे तो वह इंपोर्ट, एक्साइज या सर्विस टैक्स में थोड़ी राहत देती है। अमूमन यह देखा गया है कि अगर किसी और पार्टी की सरकार केंद्र में बनती है तो वह बजट में लिए गए कदमों में बदलाव कर देती है। वह अपनी सोच और नीति के साथ बजट तय करती है। इसलिए अंतरिम बजट में कुछ भी कदम उठाने से बचा जाता है।

बजट से जुड़े कुछ रोचक तथ्य :-

  • भारतीय बजट का इतिहास 150 साल से भी अधिक पुराना है।
  • देश का प्रथम बजट 7 अप्रैल 1860 को ब्रिटिश सरकार के वित्त मंत्री जेम्स विल्सन ने पेश किया था।
  • 1924 से 1999 तक बजट को फरवरी महीने के अंतिम कार्यकारी दिन को शाम के 5 बजे इसे सदन में पेश किया जाता था ।
  • स्वतंत्रता भारत का प्रथम बजट देश के प्रथम वित्त मंत्री आर० के० षणमुखम चेट्टी ने 26 नवंबर 1947 को पेश किया ।
  • गणतंत्र भारत का प्रथम बजट 28 फरवरी 1950 को जान मथाई ने पेश किया था ।जिसमे योजना आयोग की स्थापना का वर्णन किया था।
  • देश में प्रथम अंतरिम बजट 1951-52 में पेश किया था । जिसे वित्त मंत्री सीडी देशमुख ने पेश किया था ।
  • 1955-56 से बजट पेपर हिंदी में तैयार किए जाने लगे।
  • सन 2000 में पहली बार यशवंत सिन्हा ने बजट सुबह 11 बजे पेश किया था ।
  • प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने 1958-59 का बजट पेश किया,उस समय वित्त मंत्रालय उनके पास था ऐसा करने वाले वे देश के पहले प्रधानमंत्री बने।
  • सर्वाधिक बजट पेश करने का रिकार्ड मोरारजी देसाई के नाम है ।
  • मोरारजी देसाई ने सर्वाधिक दस बार बजट पेश किया है छह बार वित्त मंत्री और चार बार उप प्रधानमंत्री रहते हुए।
  • बजट छपने के लिए भेजे जाने से पहले वित्त मंत्रालय में हलवा खाने की रस्म निभाई जाती है।

Here you will Read about What is Interim Budget in Hindi.We hope this information will be useful to you.Thank You

2 thoughts on “अंतरिम बजट क्या है ? What is Interim Budget in Hindi”

Leave a Comment