राष्ट्रीय किसान दिवस | 23 December National Farmers Day in Hindi

नमस्कार किसान भाइयो आज हम बात करने वाले है राष्ट्रीय किसान दिवस (National Farmers Day) के बारे में जैसा की हम सभी जानते है की भारत सभ्यता और सस्कृति के अटूट बंधन से बना देश है और यहाँ पर हर रोज कुछ ना कुछ खास त्यौहार (Events) मनाये जाते है । और किसान को देश का अन्नदेवता माना जाता है तो ऐसा तो हो नही सकता की किसान के सम्मान में कोई ख़ास दिन का चुनाव न किया गया हो ।आज हम जानेगे की किसान दिवस कब और क्यों मनाया जाता है

राष्ट्रीय किसान दिवस 23 December National Farmers Day in Hindi

राष्ट्रीय किसान दिवस

किसान दिवस प्रत्येक वर्ष 23 दिसम्बर को राष्ट्रीय किसान दिवस (kisan diwas)के रूप में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और किसानों के मसीहा माने जाने वाले चौधरी चरण सिंह की जयंती के दिन पूरे देश में बड़े ही उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन देश में  अनेको कार्यक्रमो का आयोजन किया जाता है व कृषि के ऊपर कई वाद-विवाद कार्यक्रम, समारोह, सेमिनार और प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है।

किसानों के मसीहा का योगदान

चौधरी चरण सिंह किसानों के सर्वमान्य नेता थे। चौधरी चरण सिंह का जन्म 23 दिसम्बर, 1902 को उत्तर प्रदेश के मेरठ ज़िले में हुआ था। और वे भारत के पांचवें प्रधानमन्त्री बने थे। चरण सिंह के पिता चौधरी मीर सिंह ने अपने नैतिक मूल्यों को विरासत में चरण सिंह को सौंपा था। सम्पूर्ण जीवन भारतीयता और ग्रामीण परिवेश की मर्यादा में व्यतीत किया और उन्हें किसानों से खास लगाव था ।

chaudhary charan singh jayanti in hindi

Kisan Diwas or National Farmers Day will be observed across the country on 23rd December to celebrate the birthday of Chaudhary Charan Singh.Full Information about Kisan Diwas 2018 Date wikipedia Get Here.

  • किसान दिवस प्रत्येक वर्ष 23 दिसम्बर को मनाया जाता है ।
  • 2001 में सरकार ने हर साल 23 दिसंबर को किसान दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया था ।
  • इस दिन किसानों के मसीहा माने जाने वाले चौधरी चरण सिंह जन्म हुआ था
  • 1952 में ”जमींदारी उन्मूलन विधेयक” को पारित करवाया ।
  • लेखपाल भर्ती में 18 प्रतिशत स्थान हरिजनों के लिए चौधरी चरण सिंह ने आरक्षित किया था।
  • किसानों के हित में उन्होंने 1954 में उत्तर प्रदेश भूमि संरक्षण कानून को पारित कराया ।
  • राष्ट्रीय किसान दिवस पर अतीत के महान और उदार नेताओं को श्रद्धांजलि दी जाती है जो किसानों के कल्याण और विकास के प्रति समर्पित थे।

चौधरी चरण सिंह ने भूमि सुधारों पर काफ़ी काम किया था। चौधरी साहब ने किसानों, पिछड़ों और ग़रीबों की राजनीति की। वे जातिवाद को ग़ुलामी की जड़ मानते थे और कहते थे कि जाति प्रथा के रहते बराबरी, संपन्नता और राष्ट्र की सुरक्षा नहीं हो सकती है।

चौधरी चरण सिंह का राजनितिक योगदान

Chaudhary Charan Singh की मेहनत के कारण ही ‘‘जमींदारी उन्मूलन विधेयक” साल 1952 में पारित हो सका। इस एक विधेयक ने सदियों से खेतों में ख़ून पसीना बहाने वाले किसानों को जीने का मौका दिया। दृढ़ इच्छा शक्ति के धनी चौधरी चरण सिंह ने प्रदेश के 27000 पटवारियों के त्यागपत्र को स्वीकार कर ‘लेखपाल‘ पद का सृजन कर नई भर्ती करके किसानों को पटवारी आतंक से मुक्ति तो दिलाई । लेखपाल भर्ती में 18 प्रतिशत स्थान हरिजनों के लिए चौधरी चरण सिंह ने आरक्षित किया था।

इसे भी पढ़ें :-

2020 तक किसानों की आय दोगुनी हो जायेगी जाने कैसे ?

उत्तर प्रदेश के किसान चरण सिंह को अपना मसीहा मानने लगे थे। उन्होंने समस्त उत्तर प्रदेश में भ्रमण करते हुए कृषकों की समस्याओं का समाधान करने का प्रयास किया। किसानों के हित में उन्होंने 1954 में उत्तर प्रदेश भूमि संरक्षण कानून को पारित कराया। उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाक़ों में खेती मुख्य व्यवसाय था। कृषकों में सम्मान होने के कारण इन्हें किसी भी चुनाव में हार का मुख नहीं देखना पड़ा।

3 अप्रैल 1967 को उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार सम्भाला और 17 अप्रैल 1968 को उन्होंने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया।इसके बाद वो दुबारा 17 फ़रवरी 1970 को मुख्यमंत्री बने। उन्होंने केन्द्र सरकार में गृहमंत्री पद पर कार्य करते हुए मंडल और अल्पसंख्यक आयोग की स्थापना की। 1979 में वित्त मंत्री और उपप्रधानमंत्री के रूप में राष्ट्रीय कृषि व ग्रामीण विकास बैंक [नाबार्ड] की स्थापना की।  28 जुलाई 1979 को चौधरी चरण सिंह समाजवादी पार्टियों तथा कांग्रेस के सहयोग से देश के प्रधानमंत्री बने।

देश की प्रगति में किसानों का महत्त्व

हर देश की प्रगति में किसान विशेष रूप से सहायक होते हैं। उसी के बल पर देश अपने खाद्यान्नों की खुशहाली को समृद्ध कर सकता है। देश में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने किसानों को ही देश का सरताज माना था। परन्तु देश की आजादी के बाद ऐसे कम ही नेता हुए है जिन्होंने किसानों के विकास के लिए निष्पक्ष रूप से कार्य किया हो । ऐसे नेताओं में सबसे अग्रणी थे देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह।

Kisan Diwas to be Observed on 23rd December

पूर्व प्रधानमंत्री चरण सिंह को किसानों के अभूतपूर्व विकास के लिए याद किया जाता है। उन्होंने हमेशा यह साबित करने की कोशिश की कि बगैर किसानों को खुशहाल किए देश व प्रदेश का विकास नहीं हो सकता। चौधरी चरण सिंह ने किसानों की खुशहाली के लिए खेती (  ) पर बल दिया था। किसानों को उपज का उचित दाम मिल सके इसके लिए भी वह गंभीर थे। उनका कहना था कि भारत का संपूर्ण विकास तभी होगा जब किसान, मज़दूर, ग़रीब सभी खुशहाल होंगे।

Slogans On Farmer In Hindi

  • जय जवान, जय किसान
  • किसानो का विकास है, देश का विकास
  • देश की उन्नति की तकदीर, किसानो की चमकदार तस्वीर
  • किसान है अन्नदाता, यही है देश के भाग्यविधाता
  • देश की प्रगति है तब तक अधूरी, किसान के विकास के बिना न होगी पूरी

किसान पर शायरी, कोट्स और स्टेटस

लोग कहते हैं बेटी को मार डालोगे,तो बहू कहाँ से पाओगे?
जरा सोचो किसान को मार डालोगे, तो रोटी कहाँ से लाओगे?

कोई परेशान हैं सास-बहू के रिश्तो में,
किसान परेशान हैं कर्ज की किश्तों में

मैं किसान हूँ मुझे भरोसा हैं अपने जूनून पर
निगाहे लगी हुई है आकाश के मानसून पर.

छत टपकती हैं, .. उसके कच्चे घर की……
फिर भी वो किसान करता हैं दुआ बारिश की

Indian Farmer Day Quotes in Hindi with Image

Indian Farmer Day Quotes in Hindi with Image

राष्ट्रीय किसान दिवस कोट्स

जमीन जल चुकी है आसमान बाकी है,
सूखे कुएँ तुम्हारा इम्तहान बाकी है..
वो जो खेतों की मेढ़ों पर उदास बैठे हैं,
उनकी आखों में अब तक ईमान बाकी है
बादलों बरस जाना समय पर इस बार
किसी का मकान गिरवी तो किसी का लगान बाकी है

कहाँ छुपा के रख दूँ मैं अपने हिस्से की शराफ़त,
जिधर भी देखता हूँ उधर बेईमान खड़े हैं,
क्या खूब तरक्की कर रहा हैं अब देश देखिये,
खेतो में बिल्डर और सड़को पर किसान खड़े हैं.

किसान पर बेस्ट हिंदी स्लोगन

ये सिलसिला क्या यूँ ही चलता रहेगा,
सियासत अपनी चालों से कब तक किसान को छलता रहेगा.

मत मारो गोलियो से मुझे मैं पहले से एक दुखी इंसान हूँ,
मेरी मौत कि वजह यही हैं कि मैं पेशे से एक किसान हूँ.

निवेदन : राष्ट्रीय किसान दिवस पर दी गई जानकारी और किसान पर शायरी, कोट्स और स्टेटस आपको पसंद आये हो तो क्रप्या इसे Whatsapp पर शेयर जरुर करे …धन्यवाद जय जवान -जय किसान 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *