राजस्थान में प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान

राजस्थान में किसानों को देय सुविधाएं –(Agriculture facilities for farmers) राजस्थान में प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान – सरकार द्वारा किसानों को उन्नत तकनीक अपनाने व उत्पादन एवं उत्पादकता में वृद्धि कर आमदनी बढाने के लिए विभिन्न प्रकार की समय समय पर सरकारी योजना चलाई जा रही है। इस पोस्ट में राजस्थान में वर्तमान में चल रही प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान की समस्त जानकारी आपको नीचे दी जा रही है ताकि आप उनका अधिक से अधिक लाभ उठा सके ।

राजस्थान में प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान व सुविधाओं का विवरण निम्न प्रकार से है :-

Contents

Rajasthan me parmukh Sarkari krishi yojnaye or anudanभारत सरकार की कृषि योजनाएं एवं अनुदान 2018, कृषि योजना ऑनलाइन, कृषि योजना राजस्थान, कृषि सम्बन्धी योजनाएं एवं अनुदान, राजस्थान कृषि योजना 2018, किसानों के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाएं,एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट राजस्थान सब्सिडी के तहत  डिग्‍गी हेतु अनुदान,फार्म पोंड योजना सब्सिडी,पाइप लाइन योजना हेतु सब्सिडी,फव्वारा सिंचाई योजना,जल हौज योजना ।

 

 

 

जल प्रबंधन (व्यक्तिगत लाभार्थी कृषक योजना) | Water Management (Personal Beneficiary Farmer’s Scheme)

  1. डिग्गी निर्माण
  2. फार्म पौण्ड निर्माण (PMKSY)
  3. पाइप लाइन (RKVY/NMOOP/NFSM)
  4. फव्‍वारा Fountain
  5. जल हौज | Water Hove

डिग्गी निर्माण हेतु अनुदान

डिग्गी निर्माण हेतु अनुदान

Image By: agriculture.rajasthan.gov.in

National agricultural development scheme – कृषि योजनाएं एवं अनुदान के अंतर्गत राज्‍य के सभी नहरी क्षेत्र वाले जिलों में डिग्‍गीयों का निर्माण किया जा रहा है जिससे की सिंचाई (Irrigation) सुविधा को बढावा दिया गया है। डिग्गी निर्माण स्कीम के तहत सरकार द्वारा किसानों को अनुदान ( Grant ) की व्यवस्था की गई है जो की इस प्रकार है ।

 

Diggi Anudan Rajasthan

Diggi Subsidy Rajasthan 2018 कृषक द्वारा न्यूनतम चार लाख लीटर एवं इससे अधिक क्षमता की पक्की डिग्गी निर्माण करने पर लागत की 50% राशि (रु. 350 प्रति घन मीटर भराव क्षमता की दर से ) तथा प्लास्टिक लाइनिंग (कच्ची) डिग्गी पर लागत की 50% (राशि रु. 100 प्रति घन मीटर भराव क्षमता की दर से) अथवा अधिकतम रु. 2 लाख जो भी कम हो, अनुदान देय है।

पात्रता डिग्गी निर्माण हेतु :- 

  • कृषक के पास कम से कम 1 हैक्टेयर सिंचित कृषि कार्य योग्य भूमि होना आवश्यक है।

आवेदन प्रक्रिया डिग्गी निर्माण हेतु:-

  • (अ) कियोस्‍क के माध्‍यम से –
  • कृषक नजदीकी नागरिक सेवा केन्द्र/ई-मित्र केन्द्र पर जाकर आवेदन करा सकेगा।
  • हस्ताक्षरयुक्त मूल आवेदन को भरकर मय दस्तावेज कियोस्क पर जमा कराये जाने के साथ रसीद प्राप्‍त करेगा।
  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑनलाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload) करवायेगा।
  • (ब) स्‍वयं द्वारा डिग्गी निर्माण हेतु आवेदन –
  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload)करेगा।
  • आवेदक आवेदन पत्र ऑन-लाईन जमा किये जाने की प्राप्ति रसीद Online ही प्राप्त कर सकेगा।
  • Applicant मूल दस्तावेजों को स्वयं अथवा डाक के माध्यम से संबंधित कृषि विभाग के कार्यालय में भिजवायेगा जिसकी प्राप्ति रसीद विभाग के कार्यालय से द्वारा दी जायेगी।
  • आवेदन पत्र के साथ आवश्‍यक दस्‍तावेज- आधार कार्ड/ भामाशाह कार्ड, जमाबंदी की नकल (छः माह से अधिक पुरानी नही हो)

समय अवधि :-

  • कार्य पूर्ण होने के उपरान्‍त 30 दिवस मे निस्‍तारण करना होगा।

लाभ प्राप्ति का स्‍त्रोत :-

  • जिला स्‍तरीय संबंधित कृषि कार्यालय।

डिग्गी निर्माण हेतु कहां सम्पर्क करें :-

  • ग्राम पंचायत स्तर पर :- कृषि पर्यवेक्षक
  • पंचायत समिति स्तर पर :- सहायक कृषि अधिकारी
  • उप जिला स्तर पर :- सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) / उद्यान कृषि अधिकारी।
  • जिला स्तर पर :- उप निदेशक कृषि (विस्तार) / उपनिदेशक उद्यान।

ये भी पढ़े : DAP तथा SSP खाद का इस्तेमाल और फायदे

फार्म पौण्ड ( तालाब ) निर्माण हेतु अनुदान (PMKSY) Farm Pond Subsidy in Rajasthan

फार्म पौण्ड ( तालाब ) निर्माण हेतु अनुदान

Image By: agriculture.rajasthan.gov.in

राष्‍ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत बारिश के जल संग्रहण हेतु समस्‍त जिलों के कृषको के लिये फार्म पौण्ड (खेत तलाई) निर्माण महत्वपूर्ण एवं उपयोगी कार्य है।  इसके लिए सरकार द्वारा किसानो के लिए सब्सिडी का प्रावधान किया गया है जो की इस प्रकार है ।

 

 

 

 

Farm Pond पर देय अनुदान :-

  • Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana सभी श्रेणी के कृषकों को लागत का 50% अथवा अधिकतम राशि रूपये 52,500/- कच्‍चे फार्म पौण्‍ड पर तथा राशि रूपये 75,000/- प्‍लास्टिक लाइनिंग कार्य के साथ (300 माईक्रोन, बी आई एस (BIS) मापदण्‍ड के अनुसार हो) जो भी कम हो, अनुदान देय होगा।

पात्रता फार्म पौण्ड निर्माण हेतु :- 

  • कृषक के नाम पर भूमि का न्यूनतम कृषि योग्य जोत भूमि आधा हैक्टेयर का स्वामित्व हो।

आवेदन प्रक्रिया फार्म पौण्ड निर्माण हेतु :- 

          कियोस्‍क के माध्‍यम से –

  • कृषक नजदीकी नागरिक सेवा केन्द्र/ई-मित्र केन्द्र पर जाकर आवेदन करा सकेगा।
  • हस्ताक्षरयुक्त मूल आवेदन को भरकर मय दस्तावेज कियोस्क पर जमा कराये जाने के साथ रसीद प्राप्‍त करेगा।
  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload) करवायेगा।

         स्‍वयं द्वारा आवेदन –

  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload)करेगा।
  • आवेदक आवेदन पत्र ऑन-लाईन जमा किये जाने की प्राप्ति रसीद ऑन-लाईन ही प्राप्त कर सकेगा।
  • मूल दस्तावेजों को स्वयं अथवा डाक के माध्यम से संबंधित कृषि विभाग के कार्यालय में भिजवायेगा जिसकी प्राप्ति रसीद विभाग के कार्यालय से द्वारा दी जायेगी।
  • आवेदन पत्र के साथ आवश्‍यक दस्‍तावेज- आधार कार्ड/ भामाशाह कार्ड, जमाबंदी की नकल (छः माह से अधिक पुरानी नही हो) तथा सादा पेपर पर शपथ पत्र कि मेरे पास कुल सिंचित एवं असिंचित भूमि है।
  • संयुक्त खातेदार की स्थिति में सह खातेदार आपसी सहमति के आधार पर प्रति कृषक हिस्सा एक हैक्टेयर से अधिक होने पर ही एक ही खसरे में अलग-अलग फार्म पौण्ड बनाने पर अनुदान के हकदार होगे।

समय अवधि :-

  • कार्य पूर्ण होने के उपरान्‍त 30 दिवस मे निस्‍तारण करना होगा।

लाभ प्राप्ति का स्‍त्रोत :-

  • जिला स्‍तरीय संबंधित कृषि कार्यालय।

फार्म पौण्ड निर्माण एवम अनुदान हेतु कहां सम्पर्क करें :-

  • ग्राम पंचायत स्तर पर :- कृषि पर्यवेक्षक
  • पंचायत समिति स्तर पर :- सहायक कृषि अधिकारी
  • उप जिला स्तर पर :- सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) / उद्यान कृषि अधिकारी।
  • जिला स्तर पर :- उप निदेशक कृषि (विस्तार) / उपनिदेशक उद्यान।

पाइप लाइन हेतु अनुदान (RKVY/NMOOP/NFSM) Grant For Irrigation Pipe Line 

पाइप लाइन हेतु अनुदान

Image By: agriculture.rajasthan.gov.in

राष्‍ट्रीय कृषि विकास योजना, राष्‍ट्रीय खादय सुरक्षा मिशन, एनएमओओपी  द्वारा राजस्थान राज्‍य के समस्‍त जिलों में सिंचाई जल (Irrigation water)की कुशलता एवं उपयोगिता को बढाने हेतु कार्यक्रम चलाये जा रहे है । इन कार्यक्रमों के अंतर्गत सिंचाई पाइपलाइन पर अनुदान की विशेष व्यवस्था की गई है जो की इस प्रकार है .

 

 

 

सिंचाई पाइपलाइन अनुदान :-

  • सिंचाई पाईपलाइन पर स्त्रोत से खेत तक पानी ले जाने के लिए निर्धारित साईज के पी.वी.सी./एच.डी.पी.ई. पाईप के क्रय पर समस्त श्रेणी के कृषको को लागत का 50% या अधिकतम राशि रू. 50/- प्रति मीटर एचडीपीई पाईप पर या राशि रू. 35/- प्रति मीटर पीवीसी पाईप पर या राशि रू. 20/- प्रति मीटर एचडीपीई लेमिनेटेड ले-फलेट टयूब पाईप पर अधिकतम राशि रूपये 15000/- जो भी आनुपातीक रुप से कम हो अनुदान देय होगा।

पात्रता सिंचाई पाइपलाइन:-

  • जिन कृषकों के नाम पर भूमि का स्वामित्व है तथा कुंए पर विद्युत/डीजल/टैक्टर चलित पम्प सैट है वे अनुदान के पात्र होगें। सामलाती कुंए पर अलग-2 पम्प सैट होने पर या पम्प सैट सामलाती होने पर भी यदि सभी हिस्सेदार अलग-2 पाईप लाइन पर अनुदान की मांग करते है तो अलग-अलग अनुदान देय होगा परन्तु भूमि का स्वामित्व अलग-अलग होना आवश्‍यक है। सामलाती जल स्त्रोत होने की स्थिति में सभी साझेदार कृषकों को स्त्रोत से एक ही पाईपलाइन दूर तक ले जाने में सभी कृषकों को अलग-2 अनुदान देय होगा।
  • कृषक को अनुदान हेतु आधार कार्ड/ भामाशाह कार्ड संख्या देना अनिवार्य होगा।

सिंचाई पाइपलाइन अनुदान की आवेदन प्रक्रिया :-

       कियोस्‍क के माध्‍यम से –

  • कृषक नजदीकी नागरिक सेवा केन्द्र/ई-मित्र केन्द्र पर जाकर आवेदन करा सकेगा।
  • हस्ताक्षरयुक्त मूल आवेदन को भरकर मय दस्तावेज कियोस्क पर जमा कराये जाने के साथ रसीद प्राप्‍त करेगा।
  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को Online e-Form में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload) करवायेगा।

       स्‍वयं द्वारा आवेदन –

  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload)करेगा।
  • आवेदक आवेदन पत्र ऑन-लाईन जमा किये जाने की प्राप्ति रसीद ऑन-लाईन ही प्राप्त कर सकेगा।
  • मूल दस्तावेजों को स्वयं अथवा डाक के माध्यम से संबंधित कृषि विभाग के कार्यालय में भिजवायेगा जिसकी प्राप्ति रसीद विभाग के कार्यालय से द्वारा दी जायेगी।
  • आवेदन पत्र के साथ आवश्‍यक दस्‍तावेज- आधार कार्ड/ भामाशाह कार्ड, जमाबंदी की नकल (छः माह से अधिक पुरानी नही हो) तथा सादा पेपर पर शपथ पत्र कि मेरे पास कुल सिंचित एवं असिंचित भूमि है।

समय अवधि :-

  • कार्य पूर्ण होने के उपरान्‍त 30 दिवस मे निस्‍तारण करना होगा।

लाभ प्राप्ति का स्‍त्रोत :-

  • जिला स्‍तरीय संबंधित कृषि कार्यालय।

पाइपलाइन अनुदान के लिए कहां सम्पर्क करें :-

  • ग्राम पंचायत स्तर पर :- कृषि पर्यवेक्षक
  • पंचायत समिति स्तर पर :- सहायक कृषि अधिकारी
  • उप जिला स्तर पर :- सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) / उद्यान कृषि अधिकारी।
  • जिला स्तर पर :- उप निदेशक कृषि (विस्तार) / उपनिदेशक उद्यान।

जल हौज निर्माण हेतु अनुदान | Subsidy for construction of water haul

जल हौज निर्माण हेतु अनुदान

Image By: agriculture.rajasthan.gov.in

राष्‍ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत राजस्थान राज्‍य मे अधिक गहराई वाले कुओ तथा असामयिक विदयूत आपूति क्षेत्र में जल हौज का निर्माण कार्य अथवा नलकूप के द्वारा जल को हौज में एकत्रित कर खेतों में सिंचाई हेतु काम में लिया जाता है। इन जल हौजों के निर्माण के लिए सरकार के द्वारा सब्सिडी की व्यवस्था भी की गई है जो की इस प्रकार है .

 

 

 

 

अनुदान जल हौज निर्माण हेतु :-

  • सभी श्रेणी के किसानों को न्यूनतम एक लाख लीटर भराव क्षमता आकार के जल हौज का निर्माण करने पर इकाई लागत का 50 प्रतिशत या राशि रू. 350/- प्रति घन मीटर भराव क्षमता या अधिकतम रूपये 75000/- जो भी कम हो अनुदान की दर से नियमानुसार अनुदान देय होगा ।

जल हौज निर्माण हेतु पात्रता :-

  • कृषकों के नाम पर भूमि का न्यूनतम कृषि योग्य जोत भूमि आधा हैक्टेयर का स्वामित्व हो।

आवेदन प्रक्रिया जल हौज निर्माण हेतु:-

          कियोस्‍क के माध्‍यम से –

  • कृषक नजदीकी नागरिक सेवा केन्द्र/ई-मित्र केन्द्र पर जाकर आवेदन करा सकेगा।
  • हस्ताक्षरयुक्त मूल आवेदन को भरकर मय दस्तावेज कियोस्क पर जमा कराये जाने के साथ रसीद प्राप्‍त करेगा।
  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload) करवायेगा।

          स्‍वयं द्वारा आवेदन –

  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload)करेगा।
  • Applicant आवेदन पत्र ऑन-लाईन जमा किये जाने की प्राप्ति रसीद ऑन-लाईन ही प्राप्त कर सकेगा।
  • आवेदक मूल दस्तावेजों को स्वयं अथवा डाक के माध्यम से संबंधित कृषि विभाग के कार्यालय में भिजवायेगा जिसकी प्राप्ति रसीद विभाग के कार्यालय से द्वारा दी जायेगी।
  • आवेदन पत्र के साथ आवश्‍यक दस्‍तावेज- आधार कार्ड/ भामाशाह कार्ड, जमाबंदी की नकल (छः माह से अधिक पुरानी नही हो)।

समय अवधि :-

  • कार्य पूर्ण होने के उपरान्‍त 30 दिवस मे निस्‍तारण करना होगा।

लाभ प्राप्ति का स्‍त्रोत :-

  • जिला स्‍तरीय संबंधित कृषि कार्यालय।

water haul कहां सम्पर्क करें :-

  • ग्राम पंचायत स्तर पर :- कृषि पर्यवेक्षक
  • पंचायत समिति स्तर पर :- सहायक कृषि अधिकारी
  • उप जिला स्तर पर :- सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) / उद्यान कृषि अधिकारी।
  • जिला स्तर पर :- उप निदेशक कृषि (विस्तार) / उपनिदेशक उद्यान।

फव्‍वारा सिंचाई एवं मोबाईल रेनगन हेतु अनुदान

फव्‍वारा सिंचाई एवं मोबाईल रेनगन हेतु अनुदान

Image By: agriculture.rajasthan.gov.in

राष्‍ट्रीय खादय सुरक्षा मिशन दलहन, गेंहू एवं National Mission on Oilseeds and Oil Palm (NMOOP) जल के समुचित‍‍ उपयोग हेतु फव्‍वारा सिंचाई व मोबाईल रेनगन कार्यक्रम क्रियान्वित किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है जो की निम्न प्रकार से है .

 

 

 

 

अनुदान फव्‍वारा सिंचाई एवं मोबाईल रेनगन हेतु :

    • अ-फव्वारा सिंचाई कार्यक्रम
    • राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन दलहन व गेहूँ – फव्वारा सिंचाई कार्यक्रम अन्तर्गत लागत का 50% अथवा राशि रुपयें 10000/- प्रति हैक्टेयर जो भी कम हो, अनुदान देय है।
    • राष्ट्रीय मिशन ऑन ऑइलसीड एण्ड ऑइलपाम (NMOOP) –
भारत सरकार द्वारा निर्धारित इकाई लागत क्षेत्र कृषक श्रेणी देय अनुदान प्रतिशत में
19600/- प्रति हैक्टेयर डीपीएपी / डीडीपी लघु / सीमान्त 60
अन्य 45
नोन डीपीएपी / नोन डीडीपी लघु / सीमान्त अन्य
45 35
  • ब- मोबाईल रेनगन का उपयोग विशाल क्षेत्रों की सिंचाई करने के लिए किया जाता है। अनाज एवं दलहनी फसलों की सिंचाई के लिए मोबाईल रेनगन कार्यक्रम अन्तर्गत लागत का 50 प्रतिशत अथवा राशि रुपयें 15000/- प्रति इकाई जो भी कम हो, अनुदान देय है।

पात्रता फव्‍वारा सिंचाई एवं मोबाईल रेनगन हेतु अनुदान:-

  • योजना में सभी वर्ग के कृषक अनुदान के पात्र होंगे। फव्‍वारा सिंचाई एवं मोबाईल रेनगन पर पुन: 10 वर्षो उपरान्‍त लाभान्वित किया जा सकेगा।

आवेदन प्रक्रिया :-

          कियोस्‍क के माध्‍यम से –

  • कृषक नजदीकी नागरिक सेवा केन्द्र/ई-मित्र केन्द्र पर जाकर आवेदन करा सकेगा।
  • हस्ताक्षरयुक्त मूल आवेदन को भरकर मय दस्तावेज कियोस्क पर जमा कराये जाने के साथ रसीद प्राप्‍त करेगा।
  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload) करवायेगा।

          स्‍वयं द्वारा आवेदन –

  • आवेदक मूल आवेदन पत्र को ऑन-लाईन ई-प्रपत्र (e-Form) में भरेगा एवं आवश्यक दस्तावेज को स्केन कर अपलोड (Scan & Upload)करेगा।
  • आवेदन पत्र ऑन-लाईन जमा किये जाने की प्राप्ति Receipt online ही प्राप्त कर सकेगा।
  • आवेदक मूल दस्तावेजों को स्वयं अथवा डाक के माध्यम से संबंधित Agricultural department के कार्यालय में भिजवायेगा जिसकी प्राप्ति रसीद विभाग के कार्यालय से द्वारा दी जायेगी।
  • आवेदन पत्र के साथ आवश्‍यक दस्‍तावेज- Aadhar Card/ भामाशाह कार्ड, जमाबंदी की नकल (छः माह से अधिक पुरानी नही हो)

समय अवधि :-

  • कार्य पूर्ण होने के उपरान्‍त 30 दिवस मे निस्‍तारण करना होगा।

लाभ प्राप्ति का स्‍त्रोत :-

  • जिला स्‍तरीय संबंधित कृषि कार्यालय।

फव्‍वारा सिंचाई एवं मोबाईल रेनगन अनुदान हेतु कहां सम्पर्क करें :-

  • ग्राम पंचायत स्तर पर :- कृषि पर्यवेक्षक
  • पंचायत समिति स्तर पर :- सहायक कृषि अधिकारी
  • उप जिला स्तर पर :- सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) / उद्यान कृषि अधिकारी।
  • जिला स्तर पर :- उप निदेशक कृषि (विस्तार) / उपनिदेशक उद्यान।

जानकारी स्रोत –

ऊपर दी गई सम्पूर्ण जानकारी राज्य के किसानों के हित के लिए राजस्थान सरकार की ऑफिसियल वेबसाइट  agriculture.rajasthan.gov.in से ली गई है .आप राजस्थान में प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान की अधिक जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करे .Agriculture Department Rajasthan

कृषि आयुक्तालय, राजस्थान
पंत कृषि भवन, जनपथ, सी स्कीम, जयपुर 302005
टेली. न. +91 141 2227089
वेबसाइट – agriculture.gov.in
अधिक जानकारी के लिए किसान कॉल सेंटर – 18001801551

अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां :

 

उपयोगी वेबसाइट /पोर्टल

ई-मित्र emitra.rajsthan.gov.in

  • आवेदन पर हुई कार्यवाही की प्रगति की जानकारी भी ई-मित्र पोर्टल से ऑनलाइन ली जा सकती है।
  • यह पोर्टल नागरिकों/ ई-मित्र/ सी.एस.सी./ राजकीय उपयोगकर्ताओं द्वारा प्रयोग किया जा सकता है।
  • आवेदक ई-मित्र पोर्टल द्वारा निर्धारित शुल्क ऑनलाइन भुगतान कर ई-प्रपत्र भर कर एवं सहायक दस्तावेजों को अपलोड /जमा कर सकता है।

अनुदान पात्रता के लिए कृषक स्वयं के नाम भूमि जमाबन्दी की नकल, फोटो, बैंक की पासबुक की छायाप्रति, आधार/भामाशाह कार्ड, लाइट बिल की प्रति आदि विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देश के अनुसार आवेदन करे।

Searches Related to राजस्थान में प्रमुख सरकारी कृषि योजनाएं एवं अनुदान

Rajasthan me parmukh krishi yojnaye or anudan,तारबंदी योजना राजस्थान, बाड़ा योजना Rajasthan, राजस्थान सरकार की योजनाए, राजस्थान कृषि योजनाएं, कृषि उपकरण सब्सिडी राजस्थान, एग्रीकल्चर पोर्टल, अनुदान वितरण, किसान कल्याण तथा कृषि विकास, किसान अनुदान योजना 2018 राजस्थान,  कृषि विभाग, उद्यान विभाग अजमेर राजस्थान, बीज मिनिकिट, कृषि यंत्र अनुदान वितरण कार्यक्रम, कृषि विषय लेकर अध्ययनरत छात्राओं को प्रोत्साहन राशि, जिप्सिम वितरण कार्यक्रम, जैविक खेती को बढावा देने हेतु सहायता, पौध संरक्षण आदान, पौध संरक्षण उपकरण, प्रमाणित बीज वितरण हेतु अनुदान सहायता, प्रशिक्षण शाखा द्वारा प्रशिक्षण गतिविधियाँ, फसल प्रदर्शन हेतु अनुदान, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना , समन्विलत कृषि पद्धति को अपनाने हेतु सहायता, सूक्ष्म पोषक तत्व प्रदर्शन तथा जैव उर्वरक वितरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mandi Bhav © 2018 Today Mandi Bhav